तुलसी एक गुणकारी औषधि है और कोरोना मे तुलसी के डिमांड को देखते हुये बनेगा “तुलसी वन” जहाँ तुलसी की होंगी 67 प्रजातियाँ

तुलसी वन

मध्य प्रदेश सरकार भोपाल में तुलसी वन बनाने की योजना बना रही है और उसके बाद पूरे राज्य में तुलसी वन बनाया जाएगा। भारत में लोग औषधीय प्रयोजनों के लिए तुलसी के पत्तों का उपयोग करते हैं, और औपनिवेशिक काल के दौरान, लोगों ने अपने स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए इसका काढ़ा खूब पिया। इससे तुलसी के पत्तों की मांग बढ़ गई है और मध्य प्रदेश सरकार इस मांग को पूरा करने के लिए जंगल बनाने की योजना बना रही है।

राम और श्याम तुलसी विभिन्न प्रकार के तुलसी के पौधे उगाने के लिए प्रसिद्ध हैं। तुलसी वन में 67 तरह की तुलसी लगाई जाएगी। तुलसी हमारी सेहत के लिए बहुत ही जरूरी है और कई तरह की चीजों के लिए इसका इस्तेमाल औषधि के रूप में भी किया जाता है।

हमारे यहाँ 67 तरह की तुलसी पाई जाती है

गुणवत्ता नियंत्रण विंध्य हर्बल बरखेड़ा पठानी के वैद्य संजय ने बताया कि देश में तुलसी के 67 विभिन्न प्रकार के पौधे हैं, जो देश के विभिन्न हिस्सों में पाए जा सकते हैं। इसके अलावा रिसर्च एंड एक्सटेंशन एपीसीसीएफ एचसी गुप्ता ने बताया कि इस विभाग में तुलसी वन समेत कई प्रोजेक्ट शुरू हो रहे हैं. यह प्रोजेक्ट वनस्पति विज्ञान के छात्रों के लिए बनाया गया है ताकि वे पौधों पर शोध कर सकें।

तुलसी पर हुई है 2 बार महत्वपूर्ण रिसर्च

तुलसी पर पहला शोध पटना विश्वविद्यालय में किया गया था। बायोटेक्नोलॉजी विभाग के समन्वयक, प्रोफेसर वीरेंद्र प्रसाद ने अध्ययन किया कि सी-एलिगेंस (एक कीड़ा जो मानव जीन के 70% तक मेल खाता है) कितनी बारीकी से व्यवहार करता है जब तुलसी को इसके भोजन के रूप में उपयोग किया जाता है। परिणामों से पता चला कि सी-एलिगेंस के लिए भोजन के रूप में इस्तेमाल करने पर तुलसी की उम्र 23 दिनों तक बढ़ जाती है। दूसरा शोध उत्तर प्रदेश के मेरठ स्थित चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय में किया गया। यहां तुलसी की रासायनिक संरचना का अध्ययन किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *